Wednesday, December 31, 2008

पुरा विश्व इस वर्ष खुशियों के लिए माना जाएगा

अमन हो
आज़ादी हो सुकून हो
शाबादी हो
ये कविता एक पाकिस्तानी बच्चे की जुबान है
मुझे इस वर्ष यह सुनकर उस बच्चे पर अभिमान है !
लडाई झगडा दूर हो जाए
दुनिया खुशियों से भर जाए
अमन फिर लौट आए
अगर 'शिशु' नव वर्ष का पैगाम दें
तो थोडी हे देर में दुनिया संवार दें।
क्यूंकि बीता वर्ष आतंकवाद के लिए जाना जाएगा
मुंबई में शहीद हुए देशभक्तों के लिए पहचाना जाएगा
अपनी बात नही करते 'शिशु'
पुरा विश्व इस वर्ष खुशियों के लिए माना जायेगा

2 comments:

मोहन वशिष्‍ठ said...

नया साल 2009 आप सभी के लिए
सुखदायक
धनवर्धक
स्‍वास्‍थ्‍वर्धक
मंगलमय
और प्रगतिशील हो

यही हमारी भगवान से प्रार्थना है

Regard

विनय said...

नये साल की शुभकामनाएँ

---
विनय प्रजापति