Thursday, August 27, 2009

समाज सामाजिक संबंधो का जाल है

समाज सामाजिक संबंधो का जाल है,
प्रश्न यह है?
क्या इसका किसी को मलाल है?
और दूसरी बात यह कि अब
समाज की परिभाषा भी कुछ इस तरह से हो रही
कि अमीर की गंगा बह रही है
और गरीब की यमुना बह रही है
जंहा गंगा को पवित्रता का पर्याय माना गया है
वहीं यमुना को पवित्र होते हुए भी अभिशाप माना गया है
क्यूंकि
समाज शास्त्री मानते हैं कि गरीबी अभिशाप है!
और अमीर!
अमीर की परिभाषा ही नही बनी अभी तक
इसलिए अमीर को आम आदमी कहा जाता है
इसमे गरीब और अमीर को भी साथ रखा जाता है
इसलिए आजकल यह सुना जा रहा है
आदमी संकटों से घिरा जा रहा है

No comments:

Popular Posts

तुम इंसान हो, या कोई आसमानी हो।

ये जो दिखा रहे सबको कारस्तानी हो, तुम इंसान हो, या कोई आसमानी हो। मौज के वास्ते बनाई है फेक आईडी तुमने, या, हक़ीक़त में किसी की जनानी हो। ...