Monday, April 27, 2015

मानव द्वारा है ये विकसति है या प्रकोप ये प्रकृति द्वारा

मानव द्वारा है ये विकसति है या प्रकोप ये प्रकृति द्वारा,
हे मानव! इस कटु सत्य से तुम कर सकते नहीं किनारा।
आया है भूकम्प भयावह गली गाँव की सूनी है
शहरों की दुर्गति देखो पर इससे अधिक चौगुनी है
हाहाकार मचा चहुंओर, मानव तुझको घूर रहा
और प्रशासन-शासन भी आगे तेरे मज़बूर रहा
'शिशु' की मानव से अपील ये-सुधर, न अब कर देर
प्रकृति से खिलवाड़ किया तो वो ना देखे देर-सबेर।।

No comments:

कहानी पूरी फिल्मी है।

क़रीब कोई बीस साल पहले की बात है। एक देश में एक परिवार पापड़ बनाकर बेचता था। उनके दिन बहुत गरीबी में बीत रहे थे। फ़िर उन्हें उनके पड़ोसी ने बत...