Monday, November 17, 2008

यहां धू्रमपान मना है.......

ध्रूमपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अच्छी बात है। अखबार इन खबरों से पटे पड़े हैं। यह बात अलग है कि इन खबरों को छापने वाले ज्यादातर लोग ध्रूमपान करते ही हैं क्योंकि

कहा जाता है कि ध्रूमपान लेखक के लेखन में टानिक का काम करती है। पता नहीं यह बात कहां तक सत्य है और इस बात में कितना दम है लेकिन मीडिया के ज्यादातर लोग ध्रूमपान करते देखे या पाये जाते हैं।

सार्वजनिक जगहों पर बीड़ी, सिगरेट, शराब और ध्रूमपान सबंधी अन्य सभी क्रियाओं पर पहले से ही रोक लगी थी। बावजूद इसके लोग सार्वजनिक जगहों पर खुल्मखुल्ला ध्रूमपान करते हैं। इसलिए इस वर्ष 2 अक्तूबर से इस पर आर्थिक दण्ड बढ़ाकर 200 रूपये कर दिया गया। इस आर्थिक दण्ड को दोगुना इस उम्मीद से किया गया कि ध्रूमपान निरोधक कानूनों का कड़ाई से पालन होगा।

इस बार जुर्माने के साथ और भी कई नियम जुड़ गये हैं जिसमें प्राइवेट आफिस में भी धू्रमपान प्रतिबंधित है। पहले केवल सरकारी आफिसों में ऐसे कानून लागू थे लेकिन इन कानूनों के बावजूद सरकारी कार्यालयों की दीवारें पान और तमाकू की पीक से तो यही बयान करने थे उन पर इन कानूनों क्या असर था। नये नियम के मुताबिक अब प्राइवेट कम्पनियों के ऑफिसों में भी ध्रूमपान मना है इससे इन कम्पनियों में धू्रमपान करने के लिए धू्रमपान रूम अलग से बनाये जा रहे हैं।

इस कानून को लागू होने से पहले ही अखबार और मीडिया में इस खबर को छापने और दिखाने की होड़ सी लगी हुई थी। अब जब यह कानून लागू हो गया है तब तो विज्ञापन के अलावा बड़े-बड़े होर्डिंग भी लगाये जा रहे हैं। इन होर्डिंग में जुर्माने की ख़बर के अलावा संबंधित विभाग के आला अफसरों की फोटो भी दिखाई दे रही हैं। अब इन खबरों का इस ध्रूमपान निरोधक कानून पर कितना असर पड़ेगा यह तो आने वाला समय ही बतायेगा अभी तो यही देखा जा रहा है कि इस नये कानून को लेकर सिगरेट पीने वाले कस लेकर धुंए की तरह उड़ा रहे हैं।

कहते हैं कि सिगरेट पीने वाले ज्यादातर पुरूष हैं। लेकिन पूरी तरह यह कहना कि महिलाएं इससे अछूते हैं गलत होगा। बदलते हुए जमाने जहां महिलाएं पुरूषों से कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं। वहीं वे ध्रूमपान को भी अपने बराबरी का अधिकार मानती हैं। जब पुरूष ध्रूमपान कर सकता है तो महिला क्यों नहीं, बात भी सच है कि वो क्या किसी से कम हैं। हालांकि मीडिया महिलाओं के ध्रूमपान करने से जो बीमारियां होती हैं उनकी दुहाई देकर उसे रोकने के लिए बराबर दबाव बनाता रहता है। इन खबरों के अनुसार महिलाओं के ध्रूमपान करने से उनके गर्भधारण के दौरान बच्चे के स्वास्थ्य पर असर पड़ता है तथा स्तन कैंसर जैसी गंभीर बीमारियां भी होती है, बताता रहता है।

महिलाएं किस तरह सिगरेट की शौकीन बन गयी हैं इसका एक ज्वलंत उदाहरण मैं आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूं। दिल्ली की बस में मैं सफर कर रहा था, बस में एक व्यक्ति सिगरेट पी रहा था। लोगों ने उसे पीने से मना किया, उसे डराया-थमकाया। लेकिन वह व्यक्ति नहीं माना। हार कर किसी ने सामने बैठी एक महिला की दुहाही देते हुए मना किया। युवक ने सिगरेट फेंक दी। अब क्या, देखते हैं कि वही माताजी जिनकी दुहाई देकर युवक ने सिगरेट फेंकी थी, ने सिगरेट सुलगा ली। तो यह है बात कि किस तरह महिलाएं पुरूष की ध्रूमपान में बराबरी कर रही हैं।

डॉक्टर कहते हैं कि स्वास्थ्य पर सबसे बुरा असर ध्रूमपान करने से होता है। इसको देखते हुए सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन समय-समय पर रिपोर्ट प्रस्तुत करते रहते हैं। इन रिपोर्टों के अनुसार इतने सारे उपायो और कानूनों के बावजूद न तो सिगरेट पीने वाले कम हुए हैं और न ही अन्य किसी भी तरह का ध्रूमपान कर हुआ है। बावजूद इसके सिगरेट पीने वालों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ इसकी बिक्री की ब्राचें अब और भी बढ़ गयी हैं। जहां तक सवाल है इस नये कानून को लागू करने से तो अब भी दिल्ली के बस स्डैण्डों पर लोग सिगरेट पीते खुले आम देखे जा सकते हैं। बल्कि बसों के ड्राइवर तक ने सिगरेट पीते हुए बस चलाना अभी जारी रखा है।

बात चाहे जो भी हो इसमें जरा भी संकोच नहीं है कि इतने सारे नियम, कानून और स्वास्थ्य पर इसके बुरे असर को जानते हुए भी ध्रूमपान करने वाले कम हुए हैं कहना गलत होगा। डब्ल्यू.एच.ओ की एक रिपोर्ट अनुसार ध्रूमपान करने वालों की संख्या पहले से कहीं अधिक हो गयी है। तथ्य तो और भी चौंकाने वाले हैं कि जहां पहले महिलाओं की संख्या कम थी अब बढ़कर दुगनी हो गयी है। इस ध्रूमपान को कम करने के उपयों पर आपके सुझावों का हमें इंतजार है ताकि उस पर चर्चा की जा सके।

1 comment:

seema gupta said...

"sub jantyn hain kee iske kya dushpreenam hain, fir bhee..... dil mange more.... very good artical on the subject, but its really painful that inspite of knowing, people dont wanna leave it..only one thing san stop it and that is non availablity of such things"

regards