Thursday, April 22, 2010

धरना और प्रदर्शन से अब जनमानस है त्रस्त

धरना और प्रदर्शन से अब जनमानस है त्रस्त,
धरना वाले भी हैं पीड़ित वो भी उससे ग्रस्त, 
वो धरने से ग्रस्त, कष्ट में अब जनता है सारी    
कम हो कैसे मंहगाई जबकि भ्रष्ट तंत्र है ये सरकारी
'शिशु' कहें दोस्तों अगर मंहगाई दूर है करना
बोल रही भाजपा अब होगा धरने पर धरना 

1 comment:

SANJEEV RANA said...

bilkul thik kaha aapne
in sab ke baad mansik tanaw paida hota h
mahol kharaab hota hain