Tuesday, November 11, 2008

हिन्दी और बिंदी का क्या कभी लगाओ कभी उतारो


हिन्दी और बिंदी का क्या कभी लगाओ कभी उतारो
हिन्दी भासी और औरत को मिले वहीं पर मारो
हाय यही हो रहा देश में किसको कान्हा पुकारूँ
क्या यह देख खुदही की चाँद पे सौ सौ चप्पल मारूं
हिन्दी और औरतों पर हो रहे अत्याचार
नही समय अब भी बदला है यह कहते अखबार
यह कहते अखबार बात तुम मेरी मानों
कहते हैं 'शिशुपाल' आज हिन्दी को जानो
और औरतों की महिमा को तुम पह्चाओ।

No comments:

Popular Posts

ख्वाबों पर बंदिश लगा जीना हराम करते हैं

ख्वाबों पर बंदिश लगा जीना हराम करते हैं, अब ऐसे शख़्स को ही लोग सलाम करते हैं। जो देते हैं फ़िरक़ा परस्ती को अंजाम 'शिशु', ऐसे लोगों...