Wednesday, November 12, 2008

आलोचनाओं से सबक मिलता है


इसमें संदेह नहीं है कि आलोचना किसी के लिए नुकसान देय है। इसीलिए कबीर दास जी ने भी कहा था-‘‘निंदक नियरे राखिये’। लेकिन यहां यह भी सत्य है कि यदि वही आलोचना किसी बैर भाव, उपहास और जानकारी के अभाव में की गयी है तो वह आलोचना आलोचक के लिए भी आलोचना बन जाती है। कहा तो यहां तक जाता है कि आलोचक ही सबसे बड़े प्रसंसक होते हैं। है कोई इसका जवाब? आपका जवाब आयेगा नहीं है इसका कोई जवाब।

मैंने अपना ब्लॉग लिखना अभी-अभी शुरू किया है। मतलब यह कि मैं अभी इस लाइन में नौसिखिया हूं। लोग पूछते हैं तुम्हारे ब्लॉग का उद्दे’य क्या है? तब मैं निरूत्तर हो जाता हूं। क्योंकि ब्लॉग लिखते समय मैंने यह सोचा ही नहीं था कि इसका होगा क्या। हां बात यह थी कि मन में कुछ उथल-पुथल मच रही थी उसे लिख डाला। अकेला जो था उस समय। सो उस समय मन में जो आया उसी की नकल बस ब्लॉग में उतार दी। कहने का मतलब यह है कि मेरा ब्लाग मेरे दिमाग की नकल है और कुछ नहीं।

मुझ जैसे नौसिखिया ब्लॉगर के लिए जब प्रसंसाएं मिलती हैं तो मन बाग-बाग हो जाता है।आलोचनाओं के लिए मैं अभी तैयार नहीं हूं। इसलिए आलोचनाएं मिलने पर मन को बहुत कष्ट होता है। इन्हीं आलोचनाओं के चलते ही मैने अपने ब्लॉग का नाम नजर नजर का फेर रखा। यह बात अलग है कि अब तक मिली हर आलोचना पर मैने गौर किया है उसे समझा है और अमल में भी लिया है।

आलोचनाओं से सबक मिलता है। आगे से मैं अपने लेख में उसका ध्यान रखता हूं। अभी की बात है मेरा लेख था ‘हमारा हीरा रोबोट हीरा है’ उस पर एक प्रसिद्ध आलोचक और ब्लॉग जगत के मशहूर लेखक एवं कवि श्री साधक जी की आलोचना कुछ इस प्रकार आयी-
भरा संवेदन दीखता कैसे कहें रोबोट
हीरा है यह आदमी ना बोलें
ना बोले रोबोट स्वयं की सीमा जाने
अपना काम करने पूरा, आलस ना जाने
कह साधक कवि, हम करते भावों का वेदन
कैसे कहें रोबोट दीखता भरा संवेदन।।

इसी तरह और भी आलोचनाएं आयी हैं जिनका विवरण शायद मेरे बूते की बात नहीं। हां उन पर गौर जरूर मैने किया है और उसके द्वारा अपने लेख को सुधारा भी है।

वहीं दूसरी तरफ कुछ एक कमेंटस ऐसी भी हैं जो लिखित तो नहीं हैं, लेकिन हैं कमेंट्स हीं, वह हैं हमारे सहकर्मियों की जो आहे-बगाहे मेरे ब्लॉग को देखते हैं। मैं यहां पर उनका नाम नहीं देना चाहता। वह खुद ही पढ़कर जान जायेंगे कि मैं किसके बारे में लिख रहा हूँ । ऐसे लोग एक-आध ही हैं। उन पर कबीर दास जी का यह दोहा क्या सटीक बैठता है-
कबिरा इस संसार में घणें मनुष मतिहीन।
राम राम जाने नहीं आये टोपादीन।।

अरे यह क्या मैं भी आलोचना करने लगा। यह ठीक नहीं है मेरे लिए।

No comments: