Tuesday, October 14, 2008

ललित साहित्य

देवी - देवताओं सम्बन्धी कल्पनाओ को धार्मिक साहित्य कहा जाता है मगर वास्तव में यह ललित साहित्य ही है = गोर्की

No comments:

कहानी पूरी फिल्मी है।

क़रीब कोई बीस साल पहले की बात है। एक देश में एक परिवार पापड़ बनाकर बेचता था। उनके दिन बहुत गरीबी में बीत रहे थे। फ़िर उन्हें उनके पड़ोसी ने बत...