Tuesday, October 14, 2008

ललित साहित्य

देवी - देवताओं सम्बन्धी कल्पनाओ को धार्मिक साहित्य कहा जाता है मगर वास्तव में यह ललित साहित्य ही है = गोर्की

No comments:

Popular Posts

ख्वाबों पर बंदिश लगा जीना हराम करते हैं

ख्वाबों पर बंदिश लगा जीना हराम करते हैं, अब ऐसे शख़्स को ही लोग सलाम करते हैं। जो देते हैं फ़िरक़ा परस्ती को अंजाम 'शिशु', ऐसे लोगों...